Akhileshs close Kallu Yadav submitted nomination for MLC pageant,

0
9
सुमित शर्मा, कानपुर : यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections) जीतने के बाद बीजेपी उत्साह से भरी है। बीजेपी का फोकस अब एमएलसी चुनाव (MLC Chunav 2022) पर है। कानपुर-बुंदेलखंड की पांचों सीटें जीत कर बीजेपी क्लीन स्वीप करने की तैयारी में जुटी है। कानपुर-फतेहपुर विधान परिषद सीट से एसपी के कद्दावर नेता दिलीप सिंह ​​ ने नामाकंन किया है।

कल्लू यादव एसपी सरंक्षक मुलायम सिंह और अखिलेश यादव के करीबी माने जाते हैं। में इनका राजनीतिक रसूख काफी ऊंचा है। निकाय चुनाव 2016 में कल्लू यादव ने बीएसपी के अशोक कटियार को बड़े अंतराल से हराया था। लेकिन 2022 एमएलसी चुनाव में कल्लू यादव की राह आसान नहीं है।

Akhilesh Yadav: ‘बड़ा कठिन है यूपी का सफर…’ जब अखिलेश यादव के काफिले के सामने आ गया सांड़

एमएलसी दिलीप सिंह उर्फ ​​​​ यादव कानपुर देहात के सिकंदरा में रहने वाले हैं। यादव का पंचायत चुनावों से लेकर विधानसभा और लोकसभा के चुनावों में हस्ताक्षेप रहता है। कानपुर देहात के अंदर कल्लू यादव के बिना संगठन कोई निर्णय नहीं लेता है। ही नहीं एमएलसी कल्लू यादव का बीजेपी और बीएसपी नेताओं से भी अच्छे संबंध हैं। लेकिन चुनावी माहौल में वह पार्टी के प्रति पूरी इमानदारी से काम करते हैं।

सिटिंग एमएलसी को हराया था
एमएलसी निकाय चुनाव 2016 में दिलीप सिंह उर्फ ​​​​ यादव ने सिटिंग एमएलसी आशोक कटियार को 1580 वोटों से हराया था। यादव को 2687 थे। बीएसपी के अशोक कटियार को 1107 वोट मिले थे। के अनिल गुप्ता उर्फ ​​​​ को 407 वोट मिले थे। इसके साथ ही 257 वोट अवैध करार दिए गए थे, और 15 वोटरों ने नोटा का कालम भरा था।

राह नहीं है आसान
के लिए एमएलसी निकाय चुनाव 2022 आसान नहीं है। यदि कानपुर-फतेहपुर विधान परिषद सीट की बात की जाए, बीजेपी यहां पर बहुत मजबूत है। , कानपुर और फतेहपुर में जिला पंचायत अध्यक्ष बीजेपी के हैं। इन तीनों जिलों में जिला पंचायत सदस्य, बीडीसी, विधायक, सांसद, चेयरमैन, ब्लॉक प्रमुख, पार्षद और बीजेपी समर्थित ग्राम प्रधानों की संख्या सबसे अधिक है। में एसपी प्रत्याशी कल्लू यादव की डगर कठिन हो गई है। यही हाल कानपुर-बुंदेलखंड की सभी एमएलसी सीटों पर भी है।

यादव की पत्नी रह चुकी हैं जिला पंचायत अध्यक्ष
दिलीप सिंह उर्फ ​​​​ यादव पंचायत चुनावों को भी पूरी क्षमता के साथ लड़ते हैं। यादव की पत्नी 2006 में कानपुर देहात से जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकी हैं। कानपुर देहात में बीस वर्षों से एसपी का ही जिला पंचायत अध्यक्ष बनता था। लेकिन पंचायत चुनाव 2021 में कानपुर देहात से बीजेपी सांसद देवेंद्र सिंह भोले के छोटे भाई की पत्नी नीरज सिंह ने एसपी से जिला पंचायत अध्यक्ष का पद छीन लिया है। अपना जीवन देसी स्टाइल में जीते हैं। उन्हे खेती-किसानी और राजनीति से बहुत प्यार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here